गोएयर के पायलट की लापरवाही, खराब की बजाय विमान का सही इंजन बंद किया, 3330 फीट पर पहुंचकर हुआ गलती का अहसास

0
78
गोएयर के पायलट की लापरवाही
गोएयर के पायलट की लापरवाही
  • इंजन नंबर-2 से टकराया था पक्षी, पायलट ने बंद कर दिया था इंजन नंबर-1
  • जून 2017 की घटना, लेकिन डीजीसीए की रिपोर्ट अब सामने आई
  • दिल्ली से मुंबई जा रही फ्लाइट में सवार थे 156 यात्री

नई दिल्ली. गोएयर के पायलटों की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। उन्होंने दिल्ली से मुंबई जा रही उड़ान संख्या ए320 के एक इंजन से पक्षी टकराने के बाद गलती से सही काम कर रहे दूसरे इंजन को बंद कर दिया। 3330 फीट की ऊंचाई पर पहुंचकर भी दिक्कत दूर नहीं हुई तो उसे वापस दिल्ली एयरपोर्ट पर लाया गया। यह विमान करीब तीन मिनट तक खराब इंजन के सहारे उड़ता रहा। इसमें 156 यात्री सवार थे।

इंजन से आ रही थी तेज आवाज

  1. यह घटना 21 जून 2017 सुबह 5:58 बजे की है, लेकिन डीजीसीए (डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन) की रिपोर्ट अभी सामने आई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि उड़ान भरते समय एक पक्षी विमान के दो नंबर इंजन से टकरा गया था। तेज आवाज आने लगी तो पायलटों ने एहतियात के तौर पर कुछ देर के लिए दो नंबर इंजन बंद करने का फैसला किया।
  2. उन्हें लगा कि ऊंचाई पर पहुंचकर दोबारा इंजन स्टार्ट करने से समस्या ठीक हाे जाएगी, लेकिन गलती से उन्होंने एक नंबर इंजन बंद कर दिया जो ठीक था। 3100 फीट की ऊंचाई पर उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ। इंजन नंबर 1 को फिर से स्टार्ट किया गया। लेकिन यह तत्काल चालू नहीं हो सका।
  3. गलती का पता चला तो 3100 फीट की ऊंचाई पर इंजन नंबर 1 को फिर से स्टार्ट किया गया। लेकिन यह तत्काल चालू नहीं हो सका। पायलटों की कोशिशों के बाद 3108 फीट की ऊंचाई पर इंजन ने काम करना शुरू किया। तब विमान को वापस दिल्ली ले जाने का फैसला किया गया।
  4. लैंड करते समय विमान का केवल एक इंजन (नंबर 1) ही काम कर रहा था। विमान की जांच करने पर इंजन नंबर-2 पर खून के धब्बे मिले। इंजन के पंखे के दो ब्लेड पक्षी के टकराने से खराब हो गए थे।

डीजीसीए ने पायलटों पर कार्यवाही करने का निर्देश दिया

रिपोर्ट में कहा गया है कि लापरवाही बरतने के लिए गोएयर के ए320 विमान के पायलटों पर कार्यवाही की जाए।डीजीसीए की रिपोर्ट कहती है कि क्रू मेंबरों ने खराबी का गलत आकलन किया। उसके बाद भी उन्होंने तय मानकों का पालन नहीं किया। इमरजेंसी के दौरान उन्होंने गलत फैसला लेकर सैंकड़ों यात्रियों के जीवन को खतरे में डाला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here